Controversies of Anurag Kashyap

गेंग्स ऑफ वासेपुर के बाद केवल गलत खबरों के कारण चर्चा ने रहने के कारण आज हमने अनुराग कश्यप पर सूचनाये एकत्रित करनी शुरू कि तो पाया कि महाशय अभी केवल और केवल कंट्रोवर्सी में उलझा कर चर्चा में बने रहना चाहते हैं.. केवल OTT प्लेटफार्म पर ही फिल्मे रिलीज़ करते रहते हैं. क्यों कि अब वही जगह बची है यहाँ गाली गलौज के लिए उपयुक्त स्थान शेष रहा है.

नेशनल एंथम से प्रॉब्लम है

आपको मूवी हॉल में फिल्म शुरू होने से पहले होने वाले राष्ट्र गान से दिक्कत है मगर वही अपना प्रोपेगंडा प्रसारित करने से पहले वो खुद Anti CAA and NRC protest में इसका सहारा लेने से नहीं चुकते.

इनको अमिताभ बच्चन भी एक्टर नहीं लगते

जबकि खुद कि एक्टिंग दोयम दर्जे कि है आपको यकीन नहीं आये तो बॉम्बे वेलवेट या Ghoomketu मूवी में उनकी बेहद घटिया एक्टिंग का नमूना देख लीजिये और तो और नो स्मोकिंग, लक बाई चांस, भूतनाथ रिटर्न्स, अकीरा के साथ हैपी न्यू ईयर में ही उनको देखिएगा. समझ में आ जायेगा घटिया एक्टिंग क्या होती है ?

रामू के साथ चुम्मा चाटी

राम गोपाल वर्मा के साथ इनकी भेंस भीडंत आपने नहीं देखि है तो देखिएगा किस तरह से एक दुसरे को ट्विटर पर गरियाते रहते हैं और वही एक बार नशे में धुत्त होकर अश्लील हरकते करने वाली काफी फोटो भी इन्टरनेट पर मिल जाएगी.

CAA और NRC पर वामपंथियों के सपोर्ट

वामपंथियों के साथ हमेशा खड़े कई लोग अक्सर कोंग्रेस शाषित या विपक्ष की सरकार में होने वाले ज्वलंत मुद्दों पर अक्सर चुप्प हो जाते हैं. आप हालिया घटनाक्रम में किसी भी विपक्षी सरकारों कि खिलाफत करते हुए इनका एक भी पोस्ट आपको नहीं दिखेगा. फिर चाहे वो पश्चिम बंगाल हो या राजस्थान सरकार या केरल.

सबसे बहुचर्चित समाजवादी सरकार द्वारा  दिया गया यश भारती पुरुष्कार

सत्ता पक्ष पर हमले का प्रमुख कारण यह भी बताया जा रहा है कि अनुराग कश्यप को समाजवादी सरकार द्वारा यश भारती सम्मान के नाम पर उनके पक्ष में बोलने वाले काफी लोगो को 50 हजार रुपये हर महीने दिए जाते थे. आप अनुराग कश्यप का एक भी ट्वीट दिखा दीजिये जिसमे इन्होने समाजवादी पार्टी के खिलाफ कोई सवाल खड़ा किया हो ?

सरकारें तो कोई दूध कि धुली नहीं होती. तब भला कैसे हर मुद्दे पर सवाल उठाते उठाते आप उस पार्टी के मुद्दों पर चुप हो जाते हो जिनसे आपने फेवर लिया था ?

अपने भाई अभिनव सिंह कश्यप से किनारा

बहुत कम लोग जानते हैं कि ऐतिहासिक दबंग फिल्म बनाने वाले अभिनव सिंह कश्यप अनुराग कश्यप के सगे भाई हैं उनको भी जब अरबाज खान द्वारा धमकाए जाने पर जरुरत पड़ी तब अनुराग कश्यप ने सपोर्ट देना तो दूर बल्कि अपनी शाख दांव पर नहीं लगे इसलिए उन्होंने उस मुद्दे से अपना पल्ला एक ट्वीट करके झाड लिया.

हिट फिल्म कि तलाश

गैंग्स ऑफ़ वासेपुर के बाद यह फिल्म निर्माता केवल सेक्रेड गेम्स ही ठीक ठाक बना पाया वो भी केवल इसलिए क्यों कि ये महाशय केवल गाली और खून खराबे के अलावा कुछ अच्छा बना ही नहीं सकते.

पत्नी से तलाक

कल्कि कोचलिन से शादी के 4 साल बाद ही कल्कि कोचलिन ने अनुराग कश्यप को छोड़ना ही उचित समझा. इस से हम समझ सकते हैं कि इस बीमार मानसिकता वाले अनुराग कश्याप का ध्यान अभी भटका हुआ है और इस तरफ कोई अटेंशन देने कि फिलहाल कोई जरुरत है नहीं

Leave a Comment