आधार कार्ड की जानकारी और सुविधाएं जो आप हरगिज नहीं जानते

आज हमने इस आर्टिकल के जरिये आधार कार्ड की जानकारी आप सभी तक पंहुचाने की कोशिश की है. तो जानिए इस कार्ड की सुविधाएँ और बहुत ही उपयोगी जानकारी. मसलन आधार कार्ड में ऐसे कौनसी ख़ास बाते हैं जो इसे सुरक्षित और आसान बनाती है.

कहने को आपने जरुर ये सुना होगा कि dob या नाम बदलवाने में छींके आ जाती है मगर इस से आप भी मान सकते हैं कि यदि आप सही तरीके से डाटा उपलब्ध करवाए और सही जगह से अप्लाई करे तो आपका काम नियत समय में हो ही जाता है. वही कोई बाहरी व्यक्ति लाख कोशिश के बावजूद अपना आधार कार्ड नहीं बनवा सकता.

आधार कार्ड क्या है ?

भारत सरकार द्वारा जारी एक यूनिक 16 डिजिट वाला आईडी कार्ड आधार जो किसी व्यक्ति विशेष की पहचान सुनिश्चित करता है उसे आधार कार्ड कहते हैं. यह भारत के हरेक नागरिक को बनवाना चाहिए और यह भी सुनिश्चित करवाना चाहिए कि जो भी जानकारी सही है वह कार्ड पर अंकित होनी चाहिए.

Uniqueness आधार कार्ड की विशिष्टता

आधार कार्ड जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक डी-डुप्लीकेशन की प्रक्रिया के माध्यम से बनाया जाता है । डी-डुप्लीकेशन प्रक्रिया में नामांकन की प्रक्रिया के दौरान एकत्र किए गए निवासी की जनसांख्यिकीय और बायोमेट्रिक जानकारी की तुलना यूआईडीएआई डेटाबेस में रिकॉर्ड के साथ यह सत्यापित करने के लिए की जाती है कि निवासी पहले से ही डेटाबेस में है या नहीं । एक व्यक्ति को केवल एक बार आधार के लिए नामांकन करने की आवश्यकता होती है और डी-डुप्लीकेशन के बाद केवल एक आधार उत्पन्न होगा। यदि निवासी एक से अधिक बार नामांकन करता है, तो बाद के नामांकन अस्वीकार कर दिए जाएंगे।

Portability आधार कार्ड लेने के बाद अन्यत्र जाने पर पहचान नहीं बदलती

आधार राष्ट्रव्यापी पोर्टेबिलिटी देता है क्योंकि इसे ऑन लाइन कहीं भी प्रमाणित किया जा सकता है । यह महत्वपूर्ण है क्योंकि लाखों भारतीय एक राज्य से दूसरे राज्य या ग्रामीण क्षेत्र से शहरी केंद्रों आदि में प्रवास करते हैं ।

Random number आधार कार्ड का नम्बरिंग सिस्टम

आधार नंबर किसी भी खुफिया से रहित बेतरतीब नंबर है। नामांकन करने के इच्छुक व्यक्ति को नामांकन प्रक्रिया के दौरान बायोमेट्रिक जानकारी के साथ न्यूनतम जनसांख्यिकीय प्रदान करना होता है । आधार नामांकन प्रक्रिया में जाति, धर्म, आय, स्वास्थ्य, भूगोल आदि विवरण ों पर कब्जा नहीं है।

Scalable technology architecture आधार कार्ड जरूरत पड़ते ही और अधिक पावरफुल रिसोर्स

यूआईडी आर्किटेक्चर खुला और स्केलेबल है। निवासी का डेटा केंद्रीय रूप से संग्रहीत किया जाता है और देश में कहीं से भी प्रमाणीकरण ऑनलाइन किया जा सकता है। आधार ऑथेंटिकेशन सर्विस एक दिन में १००,०००,००० ऑथेंटिकेशन को हैंडल करने के लिए बनाई गई है ।

Open source technologies आधार कार्ड में खुलापन

ओपन सोर्स आर्किटेक्चर विशिष्ट कंप्यूटर हार्डवेयर, विशिष्ट भंडारण, विशिष्ट ओएस, विशिष्ट डेटाबेस विक्रेता, या किसी विशिष्ट विक्रेता प्रौद्योगिकियों पर निर्भरता को स्केल करने के लिए रोकता है। इस तरह के अनुप्रयोगों को खुले स्रोत या खुली प्रौद्योगिकियों का उपयोग करके बनाया जाता है और विक्रेता तटस्थ तरीके से स्केलेबिलिटी को संबोधित करने के लिए संरचित किया जाता है और एक ही आवेदन के भीतर विषम हार्डवेयर के सह-अस्तित्व की अनुमति देता है।

Ease of identification पहचान हेतु सरलता

किसी भी अधिकृत कंपनी के लिए किसी भी भारतीय की पहचान सुनिश्चित करना बहुत ही आसान हो गया है वही कोई भी व्यक्ति चाहे तो अपनी आईडी को लॉक भी कर सकता है ताकि उसकी नाम से ज्यादा कोई डिटेल शो ना करे,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *